इस दिन है करवा चौथ व्रत

Karva Chauth : हिंदुओं में मनाए जाने वाला ऐसा त्यौहार है जिसे सुहागन स्त्रियों द्वारा बड़ी ही श्रद्धा के साथ मनाया जाता है | करवा चौथ का व्रत सभी सुहागन स्त्रियां अपने पति के लिए इसका उपवास करती हैं और वह अपने पति की दीर्घायु के लिए इस व्रत को रखती हैं | हिंदू धर्म की धार्मिक मान्यताओं के अनुसार इस दिन चंद्र भगवान की पूजा अर्चना की जाती है | अब आप सभी के मन में यह सवाल आ रहा होगा कि आखिर करवा चौथ का व्रत कब से मनाया जा रहा है और इसकी शुरुआत कैसे हुई |

तो हम आपको आज के इस आर्टिकल में करवा चौथ व्रत के बारे में विस्तार से बताएंगे और करवा चौथ के व्रत को करने की क्या क्रिया विधि होती है और इस वर्ष करवा चौथ का शुभ मुहूर्त क्या है उसकी भी पूरी जानकारी यहां पर आपको विस्तार से बताएंगे तो पूरी जानकारी के लिए इस आर्टिकल को शुरू से लेकर अंत तक जरूर पढ़ें |

Karva Chauth 2022

Karva Chauth 2022

शास्त्रों के अनुसार हिंदू धर्म में Karva Chauth का विशेष महत्व है स्त्रियों द्वारा करवा चौथ के दिन अपने पति की दीर्घायु के लिए इस व्रत को रखा जाता है | Karva Chauth का व्रत कार्तिक मास की कृष्ण पक्ष की चतुर्थी को मनाने का प्रावधान है | सभी सौभाग्यवती स्त्रियां इसे मनाती हैं और इस व्रत का आरंभ सूर्योदय से पहले शुरू किया जाता है और चंद्रमा निकलने तक इसका व्रत किया जाता है चंद्रमा निकलने के उपरांत इस व्रत की पूजा की जाती है तब इसे पूर्ण माना जाता है |

कब से मनाया जा रहा है करवा चौथ का व्रत?

अगर Karva Chauth के व्रत के प्रारंभ की बात की जाए तो यह व्रत देवताओं के समय से मनाया जा रहा है और यह परंपरा देवताओं के समय से ही चली आ रही है | ऐसा बताया जाता है कि जब देवताओं और दानवों में युद्ध हो रहा था तो उस समय देवता युद्ध को हारते हुए दिखाई दे रहे थे ऐसे में सभी देवता गण मिलकर भगवान ब्रह्मदेव के पास गए और वह भगवान ब्रह्म देव से रक्षा के बारे में विनती करने लगे |

इसके बाद भगवान ब्रह्म देव ने उन्हें इस व्रत के बारे में बताया और कहा कि ऐसे संकट से देवताओं को बचने के लिए सभी देवताओं की पत्नियों को अपने-अपने पतियों के लिए करवा चौथ का व्रत रखना होगा और सच्चे ह्रदय से इस व्रत का पालन करना होगा और पत्नियों को अपने पति की विजय की कामना करनी होगी |

जब यह बात ब्रह्मदेव ने देवता गणों को बताई तो देवताओं ने ब्रह्मदेव के कथन अनुसार अपनी-अपनी पत्नियों से इस व्रत को करने को कहा और उन्होंने इस बात को स्वीकार किया और उसके बाद कार्तिक माह की चतुर्थी को देवताओं की पत्नियों ने इस व्रत को रखा और पूरी श्रद्धा के साथ इस व्रत का पालन किया और अपने पतियों की विजय की प्रार्थना की |

इसके बाद बताया जाता है कि देवताओं ने मिलकर इस युद्ध को जीत लिया और देवताओं की विजय हुई उसके बाद देवताओं की पत्नियों ने इस व्रत को खोला और भोजन ग्रहण किया और उसके बाद तभी आकाश में चंद्र देवता के दर्शन हुए तभी उन्होंने चंद्र देवता को दर्शन करते हुए Karva Chauth Vrat का आरंभ किया तभी से यह करवा चौथ का व्रत मनाया जाता है और इसमें चंद्र देवता की पूजा की जाती है |

करवा चौथ शुभ मुहूर्त 2022?

इस वर्ष करवा चौथ का व्रत करने का शुभ मुहूर्त क्या है उसकी जानकारी नीचे विस्तार से दी जा रही है जिसकी पूरी जानकारी आपको होनी चाहिए करवा चौथ की पूरी जानकारी के लिए आप इसे ध्यानपूर्वक पढ़ें.

  • 13-अक्टूबर-2022 दिन गुरुवार को करवा चौथ का व्रत मनाया जाएगा |
  • चतुर्थी को करवा चौथ का व्रत 2:00 बजे से शुरू होगा 13 अक्टूबर 2022
  • चतुर्थी का अंत 14 अक्टूबर 2022 को 3:10 तक
2022 mein karva chauth ,करवा चौथ

Leave a Comment