Big Reveals In Mohali Mms Case Cyber Cell Started Investigation – मोहाली Mms कांड: क्या महिलाओं को भी बनाया गया शिकार? ट्रूकॉलर से खुले राज से हर कोई हैरान

मोहाली के एमएमएस कांड में एक नया खुलासा हुआ है। पुलिस जिस मोबाइल नंबर की जांच में जुटी है, उसे ट्रूकॉलर एप पर स्कैमर (धोखाधड़ी करने वाला) की श्रेणी में शामिल किया गया है। यहां कई लोगों ने इस नंबर से ब्लैकमेल किए जाने संबंधी संदेश भी दर्ज किए हैं। ये संदेश फरवरी माह से डाले गए हैं। पुलिस को शक है कि आरोपी पहले से महिलाओं और युवतियों को ब्लैकमेल कर रहा है। ऐसे में साइबर सेल मामले की जांच में जुट गई है।  

चंडीगढ़ यूनिवर्सिटी वीडियो कांड में पुलिस ने रविवार को केस दर्ज किया था। आरोपी छात्रा जिस नंबर पर वीडियो भेजती थी, वह एफआईआर में बाकायदा दर्ज है। ट्रूकॉलर पर उस नंबर को सर्च करने पर कई लोगों के संदेश मिले। एक यूजर ने 15 फरवरी को दर्ज कराए अपने संदेश में लिखा है कि ब्लैकमेल मैसेज एंड कॉलिंग। 

वहीं, दूसरे यूजर ने 19 जून को लिखा है कि मेरे साथ भी ऐसा ही हो रहा है, कोई इसे जानता है क्या। एक अन्य यूजर ने यहां लिखा है कि यह व्यक्ति मेरी पत्नी को फोन कर रहा है। इसी तरह से कई और यूजर्स ने इस एप पर आरोपी के इस नंबर को ब्लैकमेलर का नंबर बताया है। 

आरोपी की ट्रूकॉलर प्रोफाइल में अब तक 55 लोग इसे स्कैमर बता चुके हैं, वहीं ट्रूकॉलर रिकॉर्ड के अनुसार यह व्यक्ति पिछले दो महीने में इस तरह के 135 फोन कर चुका है जिसमें से ज्यादातर कॉल शाम के 3:00 बजे से शाम के 6:00 बजे तक के समय में गईं हैं। पुलिस की साइबर टीम को इस मामले की जांच में लगा दिया गया है। पुलिस आरोपी से भी इस संबंध में पूछताछ कर रही है। पुलिस को इस दौरान कई बड़े खुलासे होने की संभावना है।

क्या है ट्रूकॉलर

एंड्रायड एवं आईफोन के लिए यह एक कॉलिंग एवं मैसेजिंग एप है। इसके जरिए कोई भी यूजर कॉल एवं मैसेज कर सकता है। साथ ही इस एप के जरिए किसी भी मोबाइल नंबर के यूजर की प्रोफाइल जैसे कि उसका नाम, उसका प्रोफेशन एवं पता भी जांचा जा सकता है। इस एप के द्वारा अपने अन्य यूजर्स के कमेंट के आधार पर किसी नंबर को स्कैम की श्रेणी में रखा जाता है।

Leave a Comment