Bribe In Tehsil – रिश्वत अब ऐसे भी… तहसील में दिव्यांग का पर्स छीनकर निकाल लिए एक हजार

ख़बर सुनें

बरेली। सदर तहसील में रिश्वतखोरी के मामले पहले ही अक्सर सुर्खियों में रहते आए हैं, अब बेटी का आय और जाति प्रमाण पत्र बनवाए आए एक दिव्यांग की पर्स छीनकर एक हजार रुपये निकाल लेने का अलग तरह का मामला सामने आया है। शनिवार को संपूर्ण समाधान दिवस में आए घरवालों ने अफसरों को बताया कि विरोध करने पर लेखपाल और उसके निजी मुंशी ने दिव्यांग को इतनी बुरी तरह पीटा कि वह अस्पताल में भर्ती है।
सिकलापुर में रहने वाले दिव्यांग दिलीप कुमार के परिवार वालों ने सदर तहसील में संपूर्ण समाधान अधिकारी एडीएम सिटी डॉ. आरडी पांडेय को बताया कि 13 सितंबर को दिलीप बेटी की आय और जाति का प्रमाण पत्र बनवाने के लिए सदर तहसील आए थे। लेखपाल ने उनसे प्रमाण पत्र बनाने के लिए एक हजार रुपये की मांग की। वह उसे छह सौ रुपये दे रहे थे लेकिन लेखपाल और उसके निजी मुंशी ने उनके हाथ से पर्स छीन लिया और उसमें से एक हजार रुपये निकाल लिए।
दिलीप के घरवालों ने अधिकारियों को बताया कि वह लेखपाल के बार-बार चक्कर लगवाने से पहले से खिन्न थे। उन्होंने पर्स से जबरन पैसे निकालने पर विरोध जताया तो लेखपाल और उसके निजी मुंशी ने उन्हें बुरी तरह पीट दिया। घायल दिलीप तीन दिन से अस्पताल में भर्ती हैं। एडीएम सिटी ने दिलीप के घरवालों की शिकायत पर जांच का निर्देश दिया। कहा, सभी पक्षों के बयान दर्ज किए जाएं और साक्ष्यों के आधार पर रिपोर्ट तैयार करके दी जाए।
हर महीने दे रहे टैक्स फिर भी 28 हजार का नोटिस
डेलापीर की कैलाशपुर कॉलोनी के रहने वाले राजेंद्र वर्मा ने नगर निगम की ओर से भेजे गए टैक्स के नोटिस को खारिज करने की मांग की। उन्होंने बताया कि वह नियमित रूप से हर साल बिल जमा कर रहे हैं फिर भी उन्हें 16 सितंबर को 28453 रुपये के बकाया का नोटिस भेज दिया गया। टैक्स के बिलों से संबंधित तीन और लोगों ने समाधान दिवस में शिकायत की। चारों मामलों को निस्तारण करने के लिए नगर निगम को भेज दिया गया है। समाधान दिवस में अपर आयुक्त न्यायिक प्रीति जायसवाल ने भी पीड़ितों की समस्या सुनीं।
राशन वितरण में देरी और कोटेदारों से परेशानी
राशन कार्ड न बनाए जाने, राशन वितरण में देरी, कोटेदारों की मनमानी और प्रधानों की ओर से राशन कार्ड निरस्त करा देने संबंधी दर्जन भर से ज्यादा शिकायतें समाधान दिवस में की गई। इन शिकायतों को कार्रवाई के लिए पूर्ति कार्यालय भेज दिया गया। तहसील कार्यालय के मुताबिक समाधान दिवस में आई राजस्व संबंधी 21 शिकायतों में छह का मौके पर निस्तारण किया गया। पुलिस संबंधी दस, विकास की तीन, स्वास्थ्य की एक और पांच अन्य शिकायतें निस्तारण के लिए संबंधित विभागों को भेजी गई है। तहसीलदार सदर अनिल कुमार यादव ने सात दिन में शिकायतों का निस्तारण करने को कहा है।

विस्तार

बरेली। सदर तहसील में रिश्वतखोरी के मामले पहले ही अक्सर सुर्खियों में रहते आए हैं, अब बेटी का आय और जाति प्रमाण पत्र बनवाए आए एक दिव्यांग की पर्स छीनकर एक हजार रुपये निकाल लेने का अलग तरह का मामला सामने आया है। शनिवार को संपूर्ण समाधान दिवस में आए घरवालों ने अफसरों को बताया कि विरोध करने पर लेखपाल और उसके निजी मुंशी ने दिव्यांग को इतनी बुरी तरह पीटा कि वह अस्पताल में भर्ती है।

सिकलापुर में रहने वाले दिव्यांग दिलीप कुमार के परिवार वालों ने सदर तहसील में संपूर्ण समाधान अधिकारी एडीएम सिटी डॉ. आरडी पांडेय को बताया कि 13 सितंबर को दिलीप बेटी की आय और जाति का प्रमाण पत्र बनवाने के लिए सदर तहसील आए थे। लेखपाल ने उनसे प्रमाण पत्र बनाने के लिए एक हजार रुपये की मांग की। वह उसे छह सौ रुपये दे रहे थे लेकिन लेखपाल और उसके निजी मुंशी ने उनके हाथ से पर्स छीन लिया और उसमें से एक हजार रुपये निकाल लिए।

दिलीप के घरवालों ने अधिकारियों को बताया कि वह लेखपाल के बार-बार चक्कर लगवाने से पहले से खिन्न थे। उन्होंने पर्स से जबरन पैसे निकालने पर विरोध जताया तो लेखपाल और उसके निजी मुंशी ने उन्हें बुरी तरह पीट दिया। घायल दिलीप तीन दिन से अस्पताल में भर्ती हैं। एडीएम सिटी ने दिलीप के घरवालों की शिकायत पर जांच का निर्देश दिया। कहा, सभी पक्षों के बयान दर्ज किए जाएं और साक्ष्यों के आधार पर रिपोर्ट तैयार करके दी जाए।

हर महीने दे रहे टैक्स फिर भी 28 हजार का नोटिस

डेलापीर की कैलाशपुर कॉलोनी के रहने वाले राजेंद्र वर्मा ने नगर निगम की ओर से भेजे गए टैक्स के नोटिस को खारिज करने की मांग की। उन्होंने बताया कि वह नियमित रूप से हर साल बिल जमा कर रहे हैं फिर भी उन्हें 16 सितंबर को 28453 रुपये के बकाया का नोटिस भेज दिया गया। टैक्स के बिलों से संबंधित तीन और लोगों ने समाधान दिवस में शिकायत की। चारों मामलों को निस्तारण करने के लिए नगर निगम को भेज दिया गया है। समाधान दिवस में अपर आयुक्त न्यायिक प्रीति जायसवाल ने भी पीड़ितों की समस्या सुनीं।

राशन वितरण में देरी और कोटेदारों से परेशानी

राशन कार्ड न बनाए जाने, राशन वितरण में देरी, कोटेदारों की मनमानी और प्रधानों की ओर से राशन कार्ड निरस्त करा देने संबंधी दर्जन भर से ज्यादा शिकायतें समाधान दिवस में की गई। इन शिकायतों को कार्रवाई के लिए पूर्ति कार्यालय भेज दिया गया। तहसील कार्यालय के मुताबिक समाधान दिवस में आई राजस्व संबंधी 21 शिकायतों में छह का मौके पर निस्तारण किया गया। पुलिस संबंधी दस, विकास की तीन, स्वास्थ्य की एक और पांच अन्य शिकायतें निस्तारण के लिए संबंधित विभागों को भेजी गई है। तहसीलदार सदर अनिल कुमार यादव ने सात दिन में शिकायतों का निस्तारण करने को कहा है।

Leave a Comment