Businessmen Went From Agra To See The Coronation Of Queen Elizabeth On 2 June 1953 – स्मृति शेष: 2 जून 1953 को महारानी एलिजाबेथ के राज्याभिषेक को देखने आगरा से गए थे कारोबारी

ख़बर सुनें

सोमवार को ब्रिटेन की सबसे लंबे समय तक शासक रहीं महारानी एलिजाबेथ द्वितीय का अंतिम संस्कार किया गया, जिसमें हिस्सा लेने के लिए दुनिया भर से लोग ब्रिटेन पहुंचे। उनके अंतिम संस्कार का लाइव कवरेज देख रहे लोगों की यादों में तब के पल उतर आए जब महारानी एलिजाबेथ की 69 साल पहले ताजपोशी हुई थी। 

महारानी एलिजाबेथ के राज्याभिषेक समारोह में हिस्सा लेने के लिए तब आगरा से भी जरी के निर्यातक पहुंचे थे। ईस्ट वेस्ट ट्रेवल कंपनी ने एयर इंडिया इंटरनेशनल फ्लाइट के जरिए देश के चुनिंदा लोगों को महारानी के राज्याभिषेक समारोह के लिए विशेष यात्रा कराई थी, जिसमें अजंता डेयरी के संस्थापक बाबूलाल अग्रवाल भी शामिल हुए थे।

बाबूलाल अग्रवाल गए थे इंग्लैंड 

कमला नगर निवासी बनवारी लाल अग्रवाल ने बताया कि उनके पिता स्वर्गीय बाबूलाल अग्रवाल आजादी के दौर में देश के बड़े जरी निर्यातकों में से एक थे। ब्रिटेन और अमेरिका में उनकी फर्म मोहन एंब्रोइडरी वर्क्स जरी का निर्यात करती थी। महारानी की ताजपोशी की खबरें सुनीं तो उनके पिता ने विशेष रूप से इंग्लैंड की यात्रा तय की। 

वेस्टमिंस्टर एबे में महारानी के राज्याभिषेक समारोह के लिए पूरे देश से कई लोग पहुंचे थे, उनमें से उनके पिता भी एक थे। वह ट्रेवल कंपनी के निदेशक भी थे। उस दौर के अखबारों में इस समारोह से लौटे लोगों के फोटो प्रकाशित किए गए थे। 

विस्तार

सोमवार को ब्रिटेन की सबसे लंबे समय तक शासक रहीं महारानी एलिजाबेथ द्वितीय का अंतिम संस्कार किया गया, जिसमें हिस्सा लेने के लिए दुनिया भर से लोग ब्रिटेन पहुंचे। उनके अंतिम संस्कार का लाइव कवरेज देख रहे लोगों की यादों में तब के पल उतर आए जब महारानी एलिजाबेथ की 69 साल पहले ताजपोशी हुई थी। 

महारानी एलिजाबेथ के राज्याभिषेक समारोह में हिस्सा लेने के लिए तब आगरा से भी जरी के निर्यातक पहुंचे थे। ईस्ट वेस्ट ट्रेवल कंपनी ने एयर इंडिया इंटरनेशनल फ्लाइट के जरिए देश के चुनिंदा लोगों को महारानी के राज्याभिषेक समारोह के लिए विशेष यात्रा कराई थी, जिसमें अजंता डेयरी के संस्थापक बाबूलाल अग्रवाल भी शामिल हुए थे।

बाबूलाल अग्रवाल गए थे इंग्लैंड 

कमला नगर निवासी बनवारी लाल अग्रवाल ने बताया कि उनके पिता स्वर्गीय बाबूलाल अग्रवाल आजादी के दौर में देश के बड़े जरी निर्यातकों में से एक थे। ब्रिटेन और अमेरिका में उनकी फर्म मोहन एंब्रोइडरी वर्क्स जरी का निर्यात करती थी। महारानी की ताजपोशी की खबरें सुनीं तो उनके पिता ने विशेष रूप से इंग्लैंड की यात्रा तय की। 

वेस्टमिंस्टर एबे में महारानी के राज्याभिषेक समारोह के लिए पूरे देश से कई लोग पहुंचे थे, उनमें से उनके पिता भी एक थे। वह ट्रेवल कंपनी के निदेशक भी थे। उस दौर के अखबारों में इस समारोह से लौटे लोगों के फोटो प्रकाशित किए गए थे। 

Leave a Comment