Delhi : Ed May Be Given Investigation Of Amanatullah Khan Case – Delhi News : प्रवर्तन निदेशालय को दी जा सकती है अमानतुल्लाह खान मामले की जांच

ख़बर सुनें

वक्फ बोर्ड में कर्मचारियों की भर्ती में हुए भ्रष्टाचार के मामले में गिरफ्तार किए गए आम आदमी पार्टी विधायक अमानतुल्लाह खान की मुश्किलें बढ़ने वाली हैं। भ्रष्टाचार मामले की जांच करने के दौरान विधायक के करीबियों के पास से मिले रजिस्टर और डायरियों में करोड़ों की लेनदेन का पता चला है।

सूत्रों का कहना है कि करोड़ों की लेनदेन को देखते हुए जांच ईडी (प्रवर्तन निदेशालय) से करवाने पर विचार किया जा रहा है। माना जा रहा है कि एक या दो दिनों के भीतर इस पर कोई फैसला लिया जा सकता है। दूसरी ओर बुधवार को अमानतुल्लाह की रिमांड समाप्त हो रही है। एसीबी की टीम विधायक को कोर्ट में पेश करेगी। सूत्रों का कहना टीम विधायक की एक सप्ताह रिमांड बढ़ाने की सिफारिश करेेगी। वहीं विधायक के करीबी कौसर इमाम उर्फ लड्डन अब भी फरार हैं। पुलिस और एसीबी उसकी तलाश कर रही है। 

एसीबी सूत्रों का कहना है कि शुक्रवार को जामिया नगर में विधायक के घर और करीबियों के पास से मिले रजिस्टर और डायरियों में करोड़ों की लेनदेन का पता चला है। रुपयों की लेनदेन दिल्ली के अलावा बिहार, गुजरात, तेलंगाना के अलावा विदेश में भी होने का पता चला है। रुपयों की लेनदेन की जांच के लिए टीम विधायक को गुजरात, बिहार और तेलंगाना ले जाना चाहती है। इसी को आधार बनाकर एसीबी अदालत से विधायक की एक सप्ताह की रिमांड बढ़ाने की मांग करेगी। पूछताछ के दौरान विधायक छानबीन में ज्यादा सहयोग नहीं कर रहे हैं। विधायक बार-बार यही कहे जा रहे हैं कि टीम को उनके घर से कुछ नहीं मिला। 

दूसरी ओर एसीबी के एक अधिकारी ने बताया कि शुक्रवार को सूचना मिली थी कि विधायक के घर पर मोटा कैश और अवैध हथियार भी हैं, लेकिन टीम ने रेड की तो वहां कुछ नहीं मिला। छापेमारी से पहले ही उनको हटा दिया लेकिन विधायक की पत्नी के फोन से टीम को कुछ फोटो मिले। उसमें एक बेड पर नोटों की गड्डियां और कुछ हथियार रखे हुए हैं। पूछने पर कहीं और की फोटो बताई गई। सूत्रों का दावा है कि जिस बेड पर रुपये और हथियार रखे थे वह चादर विधायक के घर से बरामद हो गई है। ऐसे में उस चादर को भी बड़ा सबूत माना जा रहा है। 

तबीयत बिगड़ी 
अमानतुल्लाह की तबीयत बिगड़ने पर उन्हें एम्स ले जाया गया। उन्हें सोमवार को चेस्ट पेन की शिकायत हुई थी, जिसके बाद उन्हें अस्पताल ले जाया गया था, जहां से उपचार के बाद छुट्टी दे दी गई थी। मंगलवार को एक बार फिर से तबीयत बिगड़ने पर एम्स ले जाया गया। एसीबी के अतिरिक्त आयुक्त पुलिस मधुर वर्मा ने बताया कि अभी डॉक्टर चेकअप कर रहे हैं। ये तय नहीं हो पाया है कि उन्हें भर्ती करना है या एसीबी के साथ वापस भेजना है। अमानतुल्लाह को मेडिकल के लिए बाड़ा हिंदू राव हॉस्पिटल ले जाया गया था, जहां ईसीजी रिपोर्ट में डॉक्टरों ने कुछ उतार-चढ़ाव महसूस किए। फिलहाल वह एम्स में डॉक्टरों की निगरानी में हैं। 

अदालत ने केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) को स्पष्ट करने का निर्देश दिया है कि आप नेता अमानतुल्लाह खान पर दिल्ली भ्रष्टाचार निरोधक शाखा (एसीबी) ने वक्फ बोर्ड भर्ती घोटाला मामले में जो मामला दर्ज किया है वो पहले से ही सीबीआई में दर्ज मामले से अलग है क्या। वक्फ बोर्ड में कथित अनियमितताओं को लेकर अमानतुल्लाह खान के खिलाफ सीबीआई ने जो प्राथमिकी दर्ज की थी, उस मामले में मंगलवार को सुनवाई थी।

पटियाला हाउस अदालत स्थित सीबीआई के विशेष न्यायाधीश के सवाल पर जांच अधिकारी ने कहा उसे इस बारे में जानकारी नहीं है कि एसीबी के दर्ज मामले से सीबीआई का मामला अलग है या नहीं। अदालत ने जांच अधिकारी से इसका जवाब देने का निर्देश देेेते हुए सुनवाई 14 अक्तूबर के लिए स्थगित कर दी है।

सीबीआई ने अमानतुल्लाह के खिलाफ जो केस दर्ज किया है, उसके अनुसार वक्फ बोर्ड के अध्यक्ष के कार्यकाल मार्च 2016 से अक्तूबर 2016 के बीच गलत तरीके से वक्फ बोर्ड में कुछ लोगों की भर्ती की गई थी। दिल्ली सरकार के राजस्व विभाग के एसडीएम (मुख्यालय) ने नवंबर 2016 में एक शिकायत दर्ज कराई थी। अमानतुल्लाह पर आरोप लगाया गया था कि वक्फ बोर्ड में स्वीकृत और गैरस्वीकृत पदों पर मनमाने ढंग से नियुक्तियां की गई हैं। 

अमानतुल्लाह को एसीबी ने 16 सितंबर को पूछताछ के बाद पांच ठिकानों पर छापेमारी के बाद गिरफ्तार किया था। एसीबी वक्फ बोर्ड में कथित घोटाले की जांच कर रही है। ओखला से विधायक अमानतुल्लाह वक्फ बोर्ड के अध्यक्ष हैं।

विस्तार

वक्फ बोर्ड में कर्मचारियों की भर्ती में हुए भ्रष्टाचार के मामले में गिरफ्तार किए गए आम आदमी पार्टी विधायक अमानतुल्लाह खान की मुश्किलें बढ़ने वाली हैं। भ्रष्टाचार मामले की जांच करने के दौरान विधायक के करीबियों के पास से मिले रजिस्टर और डायरियों में करोड़ों की लेनदेन का पता चला है।

सूत्रों का कहना है कि करोड़ों की लेनदेन को देखते हुए जांच ईडी (प्रवर्तन निदेशालय) से करवाने पर विचार किया जा रहा है। माना जा रहा है कि एक या दो दिनों के भीतर इस पर कोई फैसला लिया जा सकता है। दूसरी ओर बुधवार को अमानतुल्लाह की रिमांड समाप्त हो रही है। एसीबी की टीम विधायक को कोर्ट में पेश करेगी। सूत्रों का कहना टीम विधायक की एक सप्ताह रिमांड बढ़ाने की सिफारिश करेेगी। वहीं विधायक के करीबी कौसर इमाम उर्फ लड्डन अब भी फरार हैं। पुलिस और एसीबी उसकी तलाश कर रही है। 

एसीबी सूत्रों का कहना है कि शुक्रवार को जामिया नगर में विधायक के घर और करीबियों के पास से मिले रजिस्टर और डायरियों में करोड़ों की लेनदेन का पता चला है। रुपयों की लेनदेन दिल्ली के अलावा बिहार, गुजरात, तेलंगाना के अलावा विदेश में भी होने का पता चला है। रुपयों की लेनदेन की जांच के लिए टीम विधायक को गुजरात, बिहार और तेलंगाना ले जाना चाहती है। इसी को आधार बनाकर एसीबी अदालत से विधायक की एक सप्ताह की रिमांड बढ़ाने की मांग करेगी। पूछताछ के दौरान विधायक छानबीन में ज्यादा सहयोग नहीं कर रहे हैं। विधायक बार-बार यही कहे जा रहे हैं कि टीम को उनके घर से कुछ नहीं मिला। 

दूसरी ओर एसीबी के एक अधिकारी ने बताया कि शुक्रवार को सूचना मिली थी कि विधायक के घर पर मोटा कैश और अवैध हथियार भी हैं, लेकिन टीम ने रेड की तो वहां कुछ नहीं मिला। छापेमारी से पहले ही उनको हटा दिया लेकिन विधायक की पत्नी के फोन से टीम को कुछ फोटो मिले। उसमें एक बेड पर नोटों की गड्डियां और कुछ हथियार रखे हुए हैं। पूछने पर कहीं और की फोटो बताई गई। सूत्रों का दावा है कि जिस बेड पर रुपये और हथियार रखे थे वह चादर विधायक के घर से बरामद हो गई है। ऐसे में उस चादर को भी बड़ा सबूत माना जा रहा है। 

तबीयत बिगड़ी 

अमानतुल्लाह की तबीयत बिगड़ने पर उन्हें एम्स ले जाया गया। उन्हें सोमवार को चेस्ट पेन की शिकायत हुई थी, जिसके बाद उन्हें अस्पताल ले जाया गया था, जहां से उपचार के बाद छुट्टी दे दी गई थी। मंगलवार को एक बार फिर से तबीयत बिगड़ने पर एम्स ले जाया गया। एसीबी के अतिरिक्त आयुक्त पुलिस मधुर वर्मा ने बताया कि अभी डॉक्टर चेकअप कर रहे हैं। ये तय नहीं हो पाया है कि उन्हें भर्ती करना है या एसीबी के साथ वापस भेजना है। अमानतुल्लाह को मेडिकल के लिए बाड़ा हिंदू राव हॉस्पिटल ले जाया गया था, जहां ईसीजी रिपोर्ट में डॉक्टरों ने कुछ उतार-चढ़ाव महसूस किए। फिलहाल वह एम्स में डॉक्टरों की निगरानी में हैं। 

Leave a Comment