Ghaghra Reached Above Red Mark – लाल निशान से ऊपर पहुंची घाघरा नदी: दो दर्जन गांवों में बाढ़ का खतरा, जान जोखिम में डालकर स्कूल जा रहे बच्चे

ख़बर सुनें

सगड़ी तहसील के देवरांचल में घाघरा नदी के जलस्तर में फिर से बढ़ोत्तरी हो रही है। सोमवार को घाघरा नदी का जलस्तर बदरहुंआ और डिघिया दोनों गेजों पर लाल निशान से पार हो गया। दो दर्जन से अधिक गांवों के रास्तों पर फिर से बाढ़ का पानी चढ़ गया है। इससे लोगों को आवागमन में परेशानी हुई। स्कूली बच्चे जान जोखिम में डाल कर स्कूल पहुंचे।
जनपद की उत्तरी सीमा से गुजरने वाली घाघरा नदी डिघिया और बदरहुंआ नाले पर लाल निशान से ऊपर हो गई है। घाघरा नदी में सोमवार को 24 घंटे में बदरहुंआ गेज पर 92 सेमी और डिघिया गेज पर 83 सेमी बढ़ाव दर्ज किया गया। घाघरा नदी का जलस्तर बढ़ना शुरू होने से बाढ़ जैसी स्थिति हो गई है।
बदरहुंआ गेज पर रविवार को जलस्तर 71.16 मीटर दर्ज किया गया था जो सोमवार को 92 सेमी बढ़कर 72.08 मीटर हो गया है। वहीं डिघिया नाले पर रविवार को जलस्तर 70.52 मीटर था जो सोमवार को 83 सेमी बढ़कर 71.35 मीटर हो गया है। इससे बाढ़ की संभावना प्रबल हो गई है। बाढ़ का खतरा मंडराने से तटवर्ती दर्जनों गांवों के हजारों लोग भयभीत हैं। अगले 24 घंटे तक नदी के जलस्तर में वृद्धि जारी रहने का अंदेशा जताया जा रहा है।
जलस्तर बढ़ा, बाढ़ चौकियां निष्क्रिय : लाटघाट। बाढ़ से निपटने के लिए कुल 10 बाढ़ चौकियां महुला गढ़वल बांध पर स्थापित की गई हैं। नदी का जलस्तर बढ़ने से दो दर्जन से अधिक गांव पानी से प्रभावित हो गए हैं। फिर भी बाढ़ चौकियां निष्क्रिय बनी हुई हैं। दाममहुला, गांगेपुर, हाजीपुर, जमुवारी, देवारा इस्माइलपुर, हैदराबाद, कुड़ही, शिवपुर, सहदेवगंज, नौबरार देवारा जदीद किता प्रथम मेें बाढ़ चौकियां बनाई गई हैं। लेकिन यह चौकियां निष्क्रिय हैं। एसडीएम सगड़ी राजीव रतन सिंह ने बताया कि सभी बाढ़ चौकियां शाम को संचालित हो जाएंगी। बाढ़ से निपटने की पूरी तैयारी कर ली गई है। पानी कल तक बढ़ सकता है।
चक्की गांव पूर्ण रूप से पानी से घिरा
घाघरा के बाढ़ से देवारा चक्की पूर्ण रूप से प्रभावित है। यह गांव चारों तरफ से पानी से घिर गया है। देवारा खास राजा गांव की करीब 15 से 20 बस्तियां प्रभावित हो गई हैं । जलस्तर बढ़ने से शाहडीह, मानिकपुर, सोनौरा, बांका, बूढ़नपट्टी, अजगरा आदि गांवों के संपर्क मार्ग डूब चुके हैं।

विस्तार

सगड़ी तहसील के देवरांचल में घाघरा नदी के जलस्तर में फिर से बढ़ोत्तरी हो रही है। सोमवार को घाघरा नदी का जलस्तर बदरहुंआ और डिघिया दोनों गेजों पर लाल निशान से पार हो गया। दो दर्जन से अधिक गांवों के रास्तों पर फिर से बाढ़ का पानी चढ़ गया है। इससे लोगों को आवागमन में परेशानी हुई। स्कूली बच्चे जान जोखिम में डाल कर स्कूल पहुंचे।

जनपद की उत्तरी सीमा से गुजरने वाली घाघरा नदी डिघिया और बदरहुंआ नाले पर लाल निशान से ऊपर हो गई है। घाघरा नदी में सोमवार को 24 घंटे में बदरहुंआ गेज पर 92 सेमी और डिघिया गेज पर 83 सेमी बढ़ाव दर्ज किया गया। घाघरा नदी का जलस्तर बढ़ना शुरू होने से बाढ़ जैसी स्थिति हो गई है।

बदरहुंआ गेज पर रविवार को जलस्तर 71.16 मीटर दर्ज किया गया था जो सोमवार को 92 सेमी बढ़कर 72.08 मीटर हो गया है। वहीं डिघिया नाले पर रविवार को जलस्तर 70.52 मीटर था जो सोमवार को 83 सेमी बढ़कर 71.35 मीटर हो गया है। इससे बाढ़ की संभावना प्रबल हो गई है। बाढ़ का खतरा मंडराने से तटवर्ती दर्जनों गांवों के हजारों लोग भयभीत हैं। अगले 24 घंटे तक नदी के जलस्तर में वृद्धि जारी रहने का अंदेशा जताया जा रहा है।

जलस्तर बढ़ा, बाढ़ चौकियां निष्क्रिय : लाटघाट। बाढ़ से निपटने के लिए कुल 10 बाढ़ चौकियां महुला गढ़वल बांध पर स्थापित की गई हैं। नदी का जलस्तर बढ़ने से दो दर्जन से अधिक गांव पानी से प्रभावित हो गए हैं। फिर भी बाढ़ चौकियां निष्क्रिय बनी हुई हैं। दाममहुला, गांगेपुर, हाजीपुर, जमुवारी, देवारा इस्माइलपुर, हैदराबाद, कुड़ही, शिवपुर, सहदेवगंज, नौबरार देवारा जदीद किता प्रथम मेें बाढ़ चौकियां बनाई गई हैं। लेकिन यह चौकियां निष्क्रिय हैं। एसडीएम सगड़ी राजीव रतन सिंह ने बताया कि सभी बाढ़ चौकियां शाम को संचालित हो जाएंगी। बाढ़ से निपटने की पूरी तैयारी कर ली गई है। पानी कल तक बढ़ सकता है।

चक्की गांव पूर्ण रूप से पानी से घिरा

घाघरा के बाढ़ से देवारा चक्की पूर्ण रूप से प्रभावित है। यह गांव चारों तरफ से पानी से घिर गया है। देवारा खास राजा गांव की करीब 15 से 20 बस्तियां प्रभावित हो गई हैं । जलस्तर बढ़ने से शाहडीह, मानिकपुर, सोनौरा, बांका, बूढ़नपट्टी, अजगरा आदि गांवों के संपर्क मार्ग डूब चुके हैं।

Leave a Comment