India Pakistan Leicester Clashes: Where Violence Erupted, Know Riots Connection To Ind Vs Pak Match All Detail – ब्रिटेन में हिंदू-मुस्लिम हिंसा: कहां-कहां छिड़ी जंग, भारत-पाकिस्तान क्रिकेट मैच से क्या कनेक्शन? जानें सबकुछ

ख़बर सुनें

ब्रिटेन में महारानी एलिजाबेथ-II के निधन के बाद शोक की लहर है। हालांकि, इंग्लैंड के कुछ इलाकों में इस दौरान भी सांप्रदायिक तनाव है। मामला है इंग्लैंड के लिस्टर शहर का, जहां बीते तीन हफ्तों से माहौल तनावपूर्ण है। वह भी महज एक क्रिकेट मैच की वजह से।  

ऐसे में यह जानना अहम है कि आखिर ब्रिटेन में हिंदू-मुस्लिमों के बीच हिंसा क्यों हो रही है? कैसे इनका कनेक्शन एक क्रिकेट मैच से जुड़ गया? लिस्टर में रहने वाले हिंदुओं और मुस्लिमों का इन लड़ाइयों को लेकर क्या कहना है? हमले के लिए कौन जिम्मेदार है? और मामले में पुलिस की जांच कहां तक पहुंची है?
क्या है ब्रिटेन में हिंदू-मुस्लिम हिंसा भड़कने की वजह?
इंग्लैंड के लिस्टर में पहली बार हिंदू-मुस्लिमों के बीच लड़ाइयों की खबर 28 अगस्त को आई थी। उसी दिन एशिया कप में भारत-पाकिस्तान के बीच टी-20 मैच था। भारत ने इस मुकाबले में जीत हासिल की थी। इसी जीत का जश्न मनाने के लिए भारत के समर्थक लिस्टर के बेलग्रेव में जुटे थे। इसी जश्न के बीच में कुछ लोगों ने आकर टीम इंडिया के समर्थकों के साथ मारपीट कर दी। घटना के जो वीडियो वायरल हुए, उनमें जश्न से गुस्साए लोगों ने भारत समर्थकों की टीशर्ट फाड़ दी और उन पर घूंसे बरसाते भी दिखे। 

घटना के बाद के जो वीडियो सोशल मीडिया पर आए, उनमें टीम इंडिया की जर्सी पहने लोगों को लिस्टर की सड़कों पर पाकिस्तान मुर्दाबाद के नारे लगाते देखा गया। इसी दौरान पुलिसकर्मी एक प्रदर्शनकारी को गिरफ्तार करते भी देखे जा सकते हैं।  
लिस्टर में फिर क्यों हिंसा की स्थिति पैदा हुई?
भारत-पाकिस्तान मैच के बाद ही पूरे लिस्टर में तनाव की स्थिति बन गई थी। हिंदू समुदाय ने शिकायत की है कि वह हेट क्राइम (नफरती अपराध) का शिकार हुए हैं। 18 सितंबर का एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है, जिसमें कुछ लोगों को एक मंदिर में तोड़फोड़ करते देखा जा सकता है। ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी की अध्यक्ष रह चुकीं रश्मि सामंत ने इस घटना का वीडियो शेयर किया और दावा किया कि लिस्टर में मुस्लिम समुदाय के लोगों ने हिंदू मंदिर में तोड़फोड की है। सामंत ने यहां तक कहा कि उपद्रवियों ने मंदिर में धार्मिक झंडों को नुकसान पहुंचाया है और हिंदू बच्चों समेत कई लोगों को बंधक बना लिया है। आसपास खड़ी कारों और हिंदुओं की संपत्ति को भी नुकसान पहुंचाया गया है। 
द गार्डियन की रिपोर्ट के मुताबिक, 17 सितंबर को एक समूह को लिस्टर के ग्रीन लेन रोड इलाके में प्रदर्शन करते देखा गया था, जहां कई मुस्लिमों की दुकानें और हिंदू मंदिर हैं। अन्य संस्थानों ने भी इस घटना को लेकर लिस्टर के रहवासियों से बातचीत का ब्योरा छपा है। एक हिंदू संगठन की प्रमुख रह चुकीं दृष्टि मे के मुताबिक, हिंदू समुदाय को लगातार टारगेट किया जा रहा है, जो कि यहां प्रवासियों की पहली पीढ़ी है। 

मुस्लिम समुदाय की रुकसाना हुसैन ने कहा कि उन्हें लिस्टर की गलियों में कई लोगों के ‘जय श्रीराम’ के नारों की आवाज सुनाई दी। सोशल मीडिया पर माजिद फ्रीमैन नाम के एक व्यक्ति की तरफ से एक वीडियो पोस्ट किया गया है, जिसमें आरोप लगाया गया है कि हिंदुओं की भीड़ ने मुस्लिमों पर कांच की बोतलें फेंकीं। फ्रीमैन ने धमकाते हुए कहा कि हम मुस्लिम इन्हीं प्रदर्शनों का जवाब दे रहे थे। हम पुलिस का भरोसा नहीं कर सकते। हम अपने समुदाय को खुद ही बचाएंगे। 
हमलों को लेकर अधिकारियों का क्या कहना है?
लिस्टर पुलिस इस मामले की जांच कर रही है। पुलिस ने कहा कि हमने लिस्टर में एक मंदिर में झंडे को नुकसान पहुंचाने के वीडियो देखे हैं। बयान में कहा गया है कि यह घटना उस वक्त हुई, जब पुलिस अधिकारी उपद्रवियों से निपट रहे थे। हिंसा की जांच के साथ इस घटना की भी जांच होगी। पूरे क्षेत्र में आने वाले दिनों में पुलिस अभियान चलाया जाएगा। 
लिस्टर पूर्व की सांसद क्लॉडिया वेब ने भी ट्विटर पर कुछ ऐसी ही अपील की। उन्होंने प्रदर्शनकारियों से अपील करते हुए कहा कि सभी को घर जाना चाहिए। हम बातचीत से समुदायों के बीच रिश्तों को सुधार सकते हैं। आपके परिवार आपकी सुरक्षा के लिए परेशान होंगे। पुलिस की सलाह को मानिए, जो कि शांति का आह्वान कर रही है। दूसरी तरफ हिंदू और जैन मंदिरों के प्रमुखों ने कहा है कि वे घटना को लेकर पुलिस के साथ सहयोग कर रहे हैं। एक बयान जारी कर कहा गया कि हिंदू समुदाय इस तरह के हमलों को बर्दाश्त नहीं करेगा, जिससे हमारे रिश्तों और एकता पर असर पड़े।
क्या पहले भी इस तरह की झड़पें हुईं हैं?
ब्रिटेन में फुटबॉल फैंस के बीच इस तरह की झड़पें काफी आम हैं। कई बार नशे में लोग एक-दूसरे के साथ मारपीट करते भी देखे गए हैं। हाल ही में वेंबले स्टेडियम में इसी तरह का संघर्ष देखा गया था, जब यूरोपीय चैंपियनशिप में इंग्लैंड और इटली के बीच मैच हुआ था। यहां टिकट न हासिल करने वाले लोगों ने स्टेडियम से निकले लोगों के साथ जबरदस्त मारपीट की थी। हालांकि, क्रिकेट के मामले में इस तरह की लड़ाई पहले सामने नहीं आई थी। 28 अगस्त को भारत की जीत के बाद हुई हिंसा अपनी तरह का पहला मामला था। 
लिस्टर में कितने हिंदू-कितने मुस्लिम?
ब्रिटेन की राष्ट्रीय स्वास्थ्य सेवा (एनएचएस) के डेटा मुताबिक, 2011 की जनगणना तक लिस्टर में कुल आबादी में मुस्लिम 7.4 फीसदी थे। वहीं हिंदुओं की संख्या 7.2 फीसदी है। इसके अलावा शहर में 2.4 फीसदी सिख भी हैं। लिस्टर में 55 फीसदी ईसाई धर्म के लोग हैं।

विस्तार

ब्रिटेन में महारानी एलिजाबेथ-II के निधन के बाद शोक की लहर है। हालांकि, इंग्लैंड के कुछ इलाकों में इस दौरान भी सांप्रदायिक तनाव है। मामला है इंग्लैंड के लिस्टर शहर का, जहां बीते तीन हफ्तों से माहौल तनावपूर्ण है। वह भी महज एक क्रिकेट मैच की वजह से।  

ऐसे में यह जानना अहम है कि आखिर ब्रिटेन में हिंदू-मुस्लिमों के बीच हिंसा क्यों हो रही है? कैसे इनका कनेक्शन एक क्रिकेट मैच से जुड़ गया? लिस्टर में रहने वाले हिंदुओं और मुस्लिमों का इन लड़ाइयों को लेकर क्या कहना है? हमले के लिए कौन जिम्मेदार है? और मामले में पुलिस की जांच कहां तक पहुंची है?

Leave a Comment