Instead Of Dm, The Tehsildar, Who Came To Take The Memorandum, Was Taken Hostage – डीएम के बजाए ज्ञापन लेने पहुंचे तहसीलदार को बंधक बना लिया

Instead of DM, the Tehsildar, who came to take the memorandum, was taken hostage

ख़बर सुनें

मथुरा। भाकियू भानू की पानीगांव पशु पैंठ में हुई महापंचायत में राष्ट्रीय अध्यक्ष ठा.भानु प्रताप सिंह ने केंद्र सरकार से मांग की कि सन 2024 तक किसान आयोग का गणन किया जाए। ज्ञापन लेने पहुंचे नायब तहसीलदार को किसानों ने बंधक बना लिया। डीएम के न पहुंचने पर कार्यकर्ताओं ने धरना शुरू कर दिया।
महापंचायत में किसानों की 14 सूत्रीय समस्याओं पर मंथन किया गया। आवारा गोवंश, किसानों पर लगे मुकदमे समाप्त करने, जंगली सूअरों व नील गायों की समस्या, एक्सप्रेस वे के फोरलेन रोड में जा रही किसानों की जमीन का मुआवजा चार गुना, बलदेव, टैटीगांव में यमुना एक्सप्रेस वे पर कट, मांट ब्रांच गंग नहर की सफाई, अवैध खनन पर रोक, किसान आयोग का गठन, स्वामीनाथन आयोग को लागू करने, मांट तहसील से क्रियान्वित सर्वे व बंदोबस्त प्रक्रिया को यथाशीघ्र पूर्ण कराए जाने की मांग की। राष्ट्रीय अध्यक्ष ने कहा कि 2024 तक किसान आयोग का गठन नहीं होता है तो भानु प्रशासनिक तानाशाही एवं किसानों के प्रति उदासीनता के विरोध में उग्र आंदोलन के लिए बाध्य होगी। भाकियू भानु सरकार बनाना भी जानती है तो गिराना भी जानती है। ज्ञापन लेने पहुंचे नायब तहसीलदार ब्रजेश कुमार को बंधक बना लिया, बाद में एसडीएम इंद्रनंदन सिंह व सीओ सदर प्रवीण कुमार मलिक ज्ञापन लेने पहुंचे।
डीएम के न पहुंचने पर कार्यकर्ताओं ने महापंचायत को अनिश्चितकालीन धरना करार देते हुए एसडीएम व सीओ को वापस भेज दिया। राष्ट्रीय प्रवक्ता हरेश ठैंनुआ व जिलाध्यक्ष देवेंद्र पहलवान ने कहा कि ज्ञापन लेने डीएम नहीं पहुंचेंगे तब तक धरना समाप्त नहीं होगा। प्रदेश अध्यक्ष योगेश प्रताप, राष्ट्रीय वरिष्ठ उपाध्यक्ष किरणपाल सिंह, रतन सिंह पहलवान, महेंद्र राजपूत, ठा,सुनील सिंह युवा प्रदेश अध्यक्ष, सत्यवीर सिंह, रामेश्वर सिंह, सुनील राघव,योगेंद्र नागर, उपेंद्र, नरेंद्र जसावत, ठा. ओमवीर सिंह, चौ. विक्रम सिंह, लक्ष्मी नारायण, जितेंद्र सिंह , अमरीश, कुशलपाल चौधरी, छत्रपाल सिंह चौधरी, मान सिंह, धर्मवीर सिंह राजवीर सिंह, श्याम चौधरी ,रामवीर सिंह, हुब्बू , राकेश आदि उपस्थित थे। अध्यक्षता दिगंबर सिंह व संचालन जिलाध्यक्ष देवेंद्र पहलवान ने किया।

मथुरा। भाकियू भानू की पानीगांव पशु पैंठ में हुई महापंचायत में राष्ट्रीय अध्यक्ष ठा.भानु प्रताप सिंह ने केंद्र सरकार से मांग की कि सन 2024 तक किसान आयोग का गणन किया जाए। ज्ञापन लेने पहुंचे नायब तहसीलदार को किसानों ने बंधक बना लिया। डीएम के न पहुंचने पर कार्यकर्ताओं ने धरना शुरू कर दिया।

महापंचायत में किसानों की 14 सूत्रीय समस्याओं पर मंथन किया गया। आवारा गोवंश, किसानों पर लगे मुकदमे समाप्त करने, जंगली सूअरों व नील गायों की समस्या, एक्सप्रेस वे के फोरलेन रोड में जा रही किसानों की जमीन का मुआवजा चार गुना, बलदेव, टैटीगांव में यमुना एक्सप्रेस वे पर कट, मांट ब्रांच गंग नहर की सफाई, अवैध खनन पर रोक, किसान आयोग का गठन, स्वामीनाथन आयोग को लागू करने, मांट तहसील से क्रियान्वित सर्वे व बंदोबस्त प्रक्रिया को यथाशीघ्र पूर्ण कराए जाने की मांग की। राष्ट्रीय अध्यक्ष ने कहा कि 2024 तक किसान आयोग का गठन नहीं होता है तो भानु प्रशासनिक तानाशाही एवं किसानों के प्रति उदासीनता के विरोध में उग्र आंदोलन के लिए बाध्य होगी। भाकियू भानु सरकार बनाना भी जानती है तो गिराना भी जानती है। ज्ञापन लेने पहुंचे नायब तहसीलदार ब्रजेश कुमार को बंधक बना लिया, बाद में एसडीएम इंद्रनंदन सिंह व सीओ सदर प्रवीण कुमार मलिक ज्ञापन लेने पहुंचे।

डीएम के न पहुंचने पर कार्यकर्ताओं ने महापंचायत को अनिश्चितकालीन धरना करार देते हुए एसडीएम व सीओ को वापस भेज दिया। राष्ट्रीय प्रवक्ता हरेश ठैंनुआ व जिलाध्यक्ष देवेंद्र पहलवान ने कहा कि ज्ञापन लेने डीएम नहीं पहुंचेंगे तब तक धरना समाप्त नहीं होगा। प्रदेश अध्यक्ष योगेश प्रताप, राष्ट्रीय वरिष्ठ उपाध्यक्ष किरणपाल सिंह, रतन सिंह पहलवान, महेंद्र राजपूत, ठा,सुनील सिंह युवा प्रदेश अध्यक्ष, सत्यवीर सिंह, रामेश्वर सिंह, सुनील राघव,योगेंद्र नागर, उपेंद्र, नरेंद्र जसावत, ठा. ओमवीर सिंह, चौ. विक्रम सिंह, लक्ष्मी नारायण, जितेंद्र सिंह , अमरीश, कुशलपाल चौधरी, छत्रपाल सिंह चौधरी, मान सिंह, धर्मवीर सिंह राजवीर सिंह, श्याम चौधरी ,रामवीर सिंह, हुब्बू , राकेश आदि उपस्थित थे। अध्यक्षता दिगंबर सिंह व संचालन जिलाध्यक्ष देवेंद्र पहलवान ने किया।

Leave a Comment