Joe Biden To Un Russia Shamelessly Violated Core Tenets Of Body Charter With Brutal Needless War In Ukraine – Biden To Un: बाइडन ने रूस पर साधा निशाना, बोले- पुतिन ने यूएन के घोषणा पत्र की मूल भावना का उल्लंघन किया

ख़बर सुनें

अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडन ने बुधवार को संयुक्त राष्ट्र आम सभा (UNGA) को संबोधित किया। उन्होंने संयुक्त राष्ट्र में कहा कि रूस ने यूक्रेन में क्रूर और अनावश्यक युद्ध छेड़कर विश्व संगठन के चार्टर की मूल भावना का निर्लज्जता से उल्लंघन किया है।

रूस पर जमकर बरसे बाइडन
अमेरिकी राष्ट्रपति ने कहा कि संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के एक प्रमुख सदस्य ने अपने पड़ोसी पर आक्रमण किया। उसने एक संप्रभु राज्य को मानचित्र से मिटाने का प्रयास किया। रूस ने बेशर्मी से संयुक्त राष्ट्र के चार्टर के मूल सिद्धांतों का उल्लंघन किया है। आज ही के दिन राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने लापरवाह होकर यूरोप के खिलाफ परमाणु धमकियां दीं। रूस लड़ाई में शामिल होने के लिए और सैनिकों को बुला रहा है। यूक्रेन के कुछ हिस्सों पर कब्जा करने की कोशिश के लिए क्रेमलिन एक दिखावटी जनमत संग्रह आयोजित कर रहा है। 

बताया- क्यों महासभा में 141 राष्ट्र एक साथ आए?
अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन ने कहा कि यह युद्ध यूक्रेन के एक राज्य के रूप में अस्तित्व के अधिकार को खत्म करने के बारे में है। आप जो भी हैं, जहां भी रहते हैं, जो कुछ भी आप मानते हैं, वह आपके खून को ठंडा कर देगा यानी आपको पूरी तरह निराश कर देगा। इसलिए महासभा में 141 राष्ट्र एक साथ आए और यूक्रेन के खिलाफ रूस के युद्ध की निंदा की।

किसी देश के क्षेत्र पर बलपूर्वक कब्जा नहीं कर सकते: यूएस प्रेसिडेंट
उन्होंने कहा कि आप की तरह संयुक्त राज्य अमेरिका चाहता है कि यह युद्ध उचित शर्तों पर समाप्त हो, खासकर वह जिन शर्तों पर हम सभी ने हस्ताक्षर किए हैं। वह यह है कि आप किसी देश के क्षेत्र पर बलपूर्वक कब्जा नहीं कर सकते। इसके रास्ते में एकमात्र देश रूस है।

विस्तार

अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडन ने बुधवार को संयुक्त राष्ट्र आम सभा (UNGA) को संबोधित किया। उन्होंने संयुक्त राष्ट्र में कहा कि रूस ने यूक्रेन में क्रूर और अनावश्यक युद्ध छेड़कर विश्व संगठन के चार्टर की मूल भावना का निर्लज्जता से उल्लंघन किया है।

रूस पर जमकर बरसे बाइडन

अमेरिकी राष्ट्रपति ने कहा कि संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के एक प्रमुख सदस्य ने अपने पड़ोसी पर आक्रमण किया। उसने एक संप्रभु राज्य को मानचित्र से मिटाने का प्रयास किया। रूस ने बेशर्मी से संयुक्त राष्ट्र के चार्टर के मूल सिद्धांतों का उल्लंघन किया है। आज ही के दिन राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने लापरवाह होकर यूरोप के खिलाफ परमाणु धमकियां दीं। रूस लड़ाई में शामिल होने के लिए और सैनिकों को बुला रहा है। यूक्रेन के कुछ हिस्सों पर कब्जा करने की कोशिश के लिए क्रेमलिन एक दिखावटी जनमत संग्रह आयोजित कर रहा है। 

बताया- क्यों महासभा में 141 राष्ट्र एक साथ आए?

अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन ने कहा कि यह युद्ध यूक्रेन के एक राज्य के रूप में अस्तित्व के अधिकार को खत्म करने के बारे में है। आप जो भी हैं, जहां भी रहते हैं, जो कुछ भी आप मानते हैं, वह आपके खून को ठंडा कर देगा यानी आपको पूरी तरह निराश कर देगा। इसलिए महासभा में 141 राष्ट्र एक साथ आए और यूक्रेन के खिलाफ रूस के युद्ध की निंदा की।

किसी देश के क्षेत्र पर बलपूर्वक कब्जा नहीं कर सकते: यूएस प्रेसिडेंट

उन्होंने कहा कि आप की तरह संयुक्त राज्य अमेरिका चाहता है कि यह युद्ध उचित शर्तों पर समाप्त हो, खासकर वह जिन शर्तों पर हम सभी ने हस्ताक्षर किए हैं। वह यह है कि आप किसी देश के क्षेत्र पर बलपूर्वक कब्जा नहीं कर सकते। इसके रास्ते में एकमात्र देश रूस है।

Leave a Comment